स्वास्तिक क्या ? क्यों ? कैसे ?

स्वास्तिक क्या ? क्यों ? कैसे ? स्वास्तिक अत्यंत मांगलिक एवं गूढ़ अर्थ रखने वाली मंत्र या आकृति है। जिसे हम हर मांगलिक कार्यक्रम चाहे वह लौकिक हो या धार्मिक…

Read more

सम्यक्दर्शन

सम्यक्दर्शन छहढाला की तीसरी ढाल के 12 वें काव्य में कवि दौलतराम जी ने सम्यग्दर्शन के आठ अंगों का वर्णन इस प्रकार किया है जिन वच में शंका न धार…

Read more

कायोत्सर्ग किसे कहते हैं ?

कायोत्सर्ग किसे कहते हैं ? काया (शरीर) से उत्सर्ग (मोह छोड़कर) णमोकार मंत्र के आलम्बन से साँस के आने जाने पर ध्यान लगाते हुए – साँस लेते समय णमो अरिहंताणं…

Read more

आहार दान विधि

आहार दान विधि साधु श्रावक से धर्म साधन के लिए, क्षुधा का उपशमन करने के लिए तथा मोक्ष की यात्रा के साधन हेतु आहार लेते हैं। शुद्ध मन वचन काय…

Read more

हुंडा अवसर्पिणी काल से क्या क्या परिवर्तन हुए?

हुंडा अवसर्पिणी काल से क्या क्या परिवर्तन हुए? भगवान आदिनाथ का जन्म तीसरे काल में हुआ -इससे 6 विद्या के उपदेश जो अंतिम कुलकर देते हैं भगवान आदिनाथ ने दिए।…

Read more

जैनधर्म की मौलिक विशेषताएँ

जैनधर्म की मौलिक विशेषताएँ अपनी इन्द्रियों, कषायों और कर्मो को जीतने वाले जिन कहलाते हैं| जिन के उपासक को जैन कहते हैं। जिन के द्वारा कहा गया धर्म जैनधर्म है।…

Read more

भक्ष्य व अभक्ष्य विवेक – जैन आहार विज्ञान

भक्ष्य व अभक्ष्य विवेक – जैन आहार विज्ञान भक्ष्य का अर्थ खाने योग्य और अभक्ष्य का अर्थ नहीं खाने योग्य। जो वस्तुएं विशेष जीव हिंसा में कारण हैं, स्वास्थ्य के…

Read more

तीर्थंकर महावीर के पाँच नाम

तीर्थंकर महावीर के पाँच नाम वीर—जन्माभिषेक के समय इन्द्र को शंका हुई कि बालकइतने जलप्रवाहको कैसे सहनकोरेगा। बालक ने अवधिज्ञान से जानकर पैर के अंगूठे से मेरुपर्वत को थोड़ा-सा दबाया,…

Read more

तीर्थंकर महावीर

तीर्थंकर महावीर भगवान महावीर की माता का नाम त्रिशला, पिता का नाम राजा सिद्धार्थ था| भगवान महावीर अच्युत स्वर्ग के पुष्पोत्तर विमान से माता के गर्भ में आए। बालक महावीर…

Read more