परम पूज्य सराकोद्वारक आचार्य श्री 108 ज्ञानसागर जी महाराज

ये संत कोई ओर नहीं इस युग के श्रेष्ठ आचार्यो में से एक है। जिनमें भगवान महावीर का प्रतिबिम्ब झलकता है । जिनका वर्णन शब्दों में कर पाना बेहद कठिन ही नही, नामुमकिन है । जिनके व्यक्तित्व को कवि की कविता, चित्रकार के चित्र ,वक्ता के शब्द ,लेखक की कलम भी व्यक्त नहीं कर सकती ।

जिनका व्यक्तित्व हिमालय से ऊँचा है और सागर से भी गहरा है ऐसे विराट ह्रदय में समाने वाले आचार्य श्री 108 ज्ञानसागर जी महाराज का जीवन परिचय देना सूरज को दीपक दिखाने के समान है फिर भी हम अज्ञानीजन आचार्य श्री की गौरव गाथा को संक्षेप में प्रस्तुत करने का प्रयास कर रहे है ।आइए जानते हैं विराट व्यक्तित्व की कुछ विशेषताएं ।

Join Our Whatsapp Network & get updates on your phone

टीम ज्ञानवाणी

टीम ज्ञानवाणी परम पूज्य सराकोद्धारक आचार्य श्री 108 ज्ञानसागर जी महाराज के आशीर्वाद व मार्गदर्शन में काम करती है। यह टीम धर्म प्रभावना, जैन युवाओं को धर्म से जोड़ने तथा उनको प्रोफेशनल करियर में आगे बढ़ने में मदद करने के लिए कार्यरत है।

टीम ज्ञानवाणी आचार्य श्री की मंगल वाणी को प्रवचन रूप में, जैन धर्म की विभिन्न जानकारी स्वाध्याय रूप में, तीर्थंकर भगवान के कल्याणक आदि की जानकारी और आचार्य श्री के मार्गदर्शन में होने वाले विभिन्न अधिवेशन व कॉन्फ्रेंस की जानकारी युवाओं व अन्य जैन साधर्मी बंधुओं तक WhatsApp नेटवर्क, Facebook, वेबसाइट और ज्ञानसागर जी ऐप के माध्यम से पहुंचाती है।

Latest News

Gallery

Upcoming events

No event found!

Blogs

देवदर्शन विधि

देवदर्शन विधि स्नान करके, स्वच्छ वस्त्र (धोती-दुपट्टा अथवा कुर्ता-पायजामा) पहनकर तथा हाथ में धुली हुई अष्ट द्रव्य लेकर, नंगे पैर, नीचे देखकर, जीवों को बचाते…

View Detail

रात्रि भोजन त्याग

रात्रि भोजन त्याग जीव रक्षा व स्वास्थ्य हेतु रात्रि भोजन का निषेध आवश्यक है। दिन में सूर्य की किरणें रहने तक वातावरण में सूक्ष्म जीवों…

View Detail